Monday, 13 November 2017

ग़ज़ल

ये जिंदगी तो’ हो गयी’ दूभर कहे बग़ैर
आता सदा वही बुरा’ अवसर कहे बग़ैर |
बलमा नहीं गया कभी’ बाहर कहे बग़ैर
आता कभी नहीं यहाँ’, जाकर कहे बग़ैर |
है धर्म कर्म शील सभी व्यक्ति जागरूक
दिन रात परिक्रमा करे’ दिनकर कहे बग़ैर |
दुर्बल का’ क़र्ज़ मुक्ति सभी होनी’ चाहिए
क्यों ले ज़मीनदार सभी कर कहे बग़ैर |
सब धर्म पालते मे’रे’ साजन, मगर है’ दूर
आकर गए तमाम निभाकर, कहे बग़ैर |
मिलने में’ थी हँसी ख़ुशी’ अब चैन भी नहीं
सुख चैन ले गए वो’ चुराकर कहे बग़ैर |
चौकस रहो सदा सभी’, गलती न कर कभी
बैरी चलाते’ विष बुझी’ नस्तर कहे बग़ैर |
जीवन सदैव धन्य हो’ चौकस विवेक हो
आती विपत्तियाँ सभी’ अक्सर कहे बग़ैर |
ये ज़िंदगी है’ चार दिनों की, अधिक नहीं
जाते सभी ‘प्रसाद’ रुलाकर कहे बग़ैर |
कालीपद 'प्रसाद'

Sunday, 5 November 2017

ग़ज़ल

अकसीर दवा भी अभी’ नाकाम बहुत है
बेहोश मुझे करने’ मय-ए-जाम बहुत है |
वादा किया’ देंगे सभी’ को घर, नहीं’ आशा
टूटी है’ कुटी पर मुझे’ आराम बहुत है |
प्रासाद विशाल और सुभीता सभी’ भरपूर
इंसान हैं’ दागी सभी’, बदनाम बहुत है |
है राजनयिक दंड से’ ऊपर, यही’ अभिमान
शासन करे स्वीकार, कि इलज़ाम बहुत है |
साकी की’ इनायत क्या’ कहे,दिल का फ़साना
आगोश में’ थी मेरे’ ये ईनाम बहुत है |
अकसीर - बहु गुण वाला
कालीपद 'प्रसाद'

Thursday, 19 October 2017

दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं


दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं 

***********************

एक दीप ऐसा जले, मन का तम हो दूर
जब मन का तम दूर हो, मिले ख़ुशी भरपूर |

सबकी इच्छा पूर्ण हो, दैव योग परिव्याप्त
हँसी ख़ुशी आनंद हो, रिध्दि सिध्दि हो प्राप्त |
 *************शुभ दिवाली*************


कालीपद 'प्रसाद'



Wednesday, 11 October 2017

ग़ज़ल

सटीक बात की’, आक्षेप बाँधनू क्या है
ये’ बातचीत में’ खरसान बैर बू क्या है?

नया ज़माना’ नया है तमाम पैराहन
अगर पहन लिया वो वस्त्र, फ़ालतू क्या है |

हसीन मानता’ हूँ मैं उसे, नहीं शोले
नजाकतें जहाँ’ है इश्क, तुन्दखू क्या है |

किया करार बहुत आम से चुनावों में
वजीर बनके’ कही रहबरी, कि तू क्या है ?

हो वुध्दिमान मिला राज, अब करो कुछ भी   
उलट पलट करो’ खुद आप, गुफ्तगू क्या है |

ये’ कर्ण फूल, गले हार, हाथ में कंगन  
पहन लिया सभी’ कुछ, और आरजू क्या है ?

जला जो’ आग से’ कश्मीर, भष्म में है क्या
वो’ खंडहर में’ बची लाश की’ जुस्तजू क्या है ?

सभी को’ है पता’ मंत्री बना अभी “काली”
नहीं तो’ देश में’ उसकी भी’ आबरू क्या है |

शब्दार्थ :-
बाँधनू – मन गढ़ंत , खरसान –तेज , बू –गंध
तुन्दखू-गुस्सैल;तेज मिज़ाज़, जुस्तजू –खोज, गवेषणा

कालीपद 'प्रसाद'

Friday, 22 September 2017

नव रात्रि में प्रार्थना


शैल की पुत्री शैलजा तू, 
सारे जग की यशस्विनी माँ,
योगिनी रूप, करती है तप 
है तू ही ब्रह्मचारिणी माँ |
चन्द्रघन्टा, कूष्मांडा रूप 
स्कन्दमाता, कात्यायनी माँ |
तू कालरात्री, महागौरी 
सिद्धि दात्री सिंह वाहिनी माँ |
मंगल करनी शरणागत का 
सर्वदा संकट मोचनी माँ |
असूर संहार हेतु है तू 
पास, खड्ग, शूल धारिणी माँ |
दैहिक मानसिक कष्ट मेरा 
दूर कर, शोक बिनाशिनी माँ |
तू सर्व कर्म फल प्रदायिनी 
महिष मर्दिनी, विन्द्ध वासिनी माँ |
ईमान मान धर्म आचरण 
सदैव तू धर्म धारिणी माँ |
करुना सागर, विपत्तारिणी 
तम हारिणि ज्ञान दायिनी माँ |
मंत्र तंत्र हीन, हूँ मैं दीन 
कृपा मुझ पर कर सुरेश्वरि माँ |
कालीपद 'प्रसाद'

Sunday, 17 September 2017

ग़ज़ल

बुझे’ रिश्तों का’ दिया अब तो’ जला भी न सकूँ
प्रेम की आग की’ ये ज्योत बुझा भी न सकुं |

हो गया जग को’ पता, तेरे’ मे’रे नेह खबर
राज़ को और ये’ पर्दे में’ छिपा भी न सकूँ | 

गीत गाना तो’ मैं’ अब छोड़ दिया ऐ’ सनम
गुनगुनाकर भी’ ये’ आवाज़, सुना भी न सकूँ |

वक्त ने ही किया’ चोट और हुआ जख्मी मे’रे’ दिल  
जख्म ऐसे किसी’ को भी मैं’ दिखा भी न सकूँ |

बेरहम है मे’रे’ तक़दीर, प्रिया को लिया’ छीन
ये वो’ किस्मत का’ लिखा है जो’ मिटा भी न सकूँ |

बाल सूरज हो’ गया अस्त है’ सूनी माँ’ की’ गोद
आँख सूखी, न गिला किन्तु रुला भी न सकूँ |

ख़ूनी चालाक था’ गायब किया’ सब औजारें
साक्ष्य कोई नहीं’ उसको तो’ फँसा भी न सकूँ |

मिला’ है प्यार मुझे मांगे’ बिना यार मे’रे
वो’ है’ ‘काली’ मेरा पाथेय, लुटा भी न सकूँ |

कालीपद 'प्रसाद'

Sunday, 10 September 2017

ग़ज़ल

यह खुश नसीबी’ ही थी’, कि तुमसे नज़र मिले
हूराने’ खल्क जैसे’ मुझे हमसफ़र मिले |
किस्मत कभी कभी ही’ पलटती है’ अपनी’ रुख
डर्बी के ढेर में तेरे जैसे गुहर मिले |
था बेसहारा’ गरीब, सहारा मिला नहीं
क्या लाग देख जान, मुझे तेरा घर मिले |
है दूर देश में पिया’ मेरे, भेजना है ख़त
वीरान मुल्क में कोई तो नामबर मिले |
मिलते रहे सदा गले’ ओ हाथ रस्म में
मजबूत दोस्ती में’ जिगर से जिगर मिले |
नेता सभी पसंद करे नार, ज़र, ज़मीन
बंधन नहीं कहाँ कहाँ से किस कदर मिले |
इंसान हो गए हैं’ दयाहीन संगदिल
इंसानियत को’ एक रहम दिल बसर मिले |
खुद को न बंद रखना’ उदासी हिजाब में
संसार में सदैव को’ई रहगुज़ार मिले |
गुहर =गौहर ,मोती
लाग=मज़ाक़
बसर =आदमी , रहगुज़ार = रास्ता, राह
कालीपद 'प्रसाद'